Hichki Movie Dialogues in Hindi – Rani Mukerji

ऐसी कुछ फ़िल्में हैं जो दर्शकों के दिमाग पर अमिट छाप छोड़ने में कामयाब होती हैं और अपनी दमदार कहानी के लिए पसंद की जाती हैं। ऐसी ही एक फिल्म है रानी मुखर्जी स्टारर “हिचकी” जो 23 मार्च 2018 को रिलीज हुई थी। रानी मुखर्जी की हिचकी एक ऐसी फिल्म है जो नैना माथुर के जीवन के इर्द-गिर्द घूमती है, जो बचपन से टॉरेट सिंड्रोम नामक न्यूरोलॉजिकल स्थिति से पीड़ित है। नैना की लगातार हिचकियाँ और आवाजें उसकी वाणी दोष के कारण होती हैं जो जब भी घबराती है तो और बढ़ जाती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह जीवन में असफल है। हम आपके लिए कुछ बेहतरीन डायलॉग लेकर आए हैं।

एक आम शिक्षक पढ़ता है… एक अच्छा शिक्षक समझता है… बहुत अच्छा शिक्षक हो तो खुद करके बताता है… लेकिन कुछ शिक्षक होते हैं जो हमें  Inspire करके जाते हैं जिंदगी भर के लिए

There are no bad students … only bad teachers

आख़िर सोच सोच की ही तो बात है… क्यों की, क्यों और क्यों नहीं में बस सोच भर का ही फ़सल है

स्कूल के बाहर जब जिंदगी इम्तिहान लेती है…तो सब्जेक्ट वाइज नहीं लेती

एक छोटा सा तुड़का… एक छोटा सा बदलाव… यही फर्क होता है क्यों में और क्यों नहीं में

Disorders can make your body functionality weak but it has nothing to do with your dreams.

कभी-कभी हमारे जीवन में कठिन समय के दौरान हमें एहसास होता है कि हमारी ताकत क्या है

बच्चे गीली मिट्टी की तरह होते हैं, आप उन्हें सही दिशा दिखाकर वास्तव में कुछ भी बना सकते हैं

हर परिवार किसी न किसी तरह से बेकार है और यह पूरी तरह से ठीक है।

जीवन में नई शुरुआत करने में कभी देर नहीं होती